इंडस्ट्री ने बी ग्रेड पैनल्स के लिए एक नए स्टैण्डर्ड की मांग

person access_time   2 Min Read 27 March 2024

बी ग्रेड प्रोडक्ट के लिए, वुड बेस्ड पैनल इंडस्ट्री के प्लेयर्स नियमित रूप से डीपीआईआईटी और बीआईएस से कुछ पैरामीटर तैयार करने के लिए कहा हैं, उन्हें यूजर्स ग्रेड कह सकते हैं। उनका मानना है कि कुल मैन्युफैक्चरिंग का 5 से 6 फीसदी बी-ग्रेड प्लाइवुड और अन्य पैनल प्रोडक्ट्स का उत्पादन होता है। सूत्रों का कहना है कि इसे घरेलू स्तर पर उत्पादित प्रोडक्ट्स के लिए लागू किया जाना है, और इम्पोर्टेड प्रोडक्टस के लिए इसकी अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

प्लाई-बोर्ड इंडस्ट्री का मानना है कि उनका प्रमुख कच्चा माल वुड है, और कच्चे माल की प्रकृति को देखते हुए, वे बी-ग्रेड का उत्पादन करने को मजबूर हैं जो लगभग 5-6 फीसदी होंगे। प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करने के लिए बी-ग्रेड एक अलग मानक होना चाहिए।

एमडीएफ और पार्टिकल बोर्ड प्रोड्यूसर्स भी बी-ग्रेड मेटेरियल के लिए अलग मानदंड की मांग को सहयोग करते हैं, लेकिन ऐसी सुविधाएं केवल घरेलू उत्पादकों के लिए होनी चाहिए।

इंडस्ट्री ने सुझाव दिया कि डीपीआईआईटी को इस यूजर ग्रेड को कैसे बेचा जाना चाहिए, इसके लिए अलग-अलग मानदंड लाने चाहिए। यदि वे इसकी अनुमति नहीं देते हैं, तो इंडस्ट्री को काफी नुकसान होगा क्योंकि उनके इस प्रोडक्ट सेल्स में कोई मार्जिन नहीं है कि वे ऐसे मेटेरियल नष्ट कर सकें या फायर वुड के लिए स्क्रैप बना सकें। इंडस्ट्री स्टेकहोल्डसर्, नए ग्रेड के लिए स्टैण्डर्ड की तलाश कर रहे हैं।

Note: This article is originally published in Ply Reporter's February 2024 Print Issue

You may also like to read

shareShare article
×
×