इम्पोर्टेड एमडीएफ कई शहरों में पहुंचना शुरू

person access_time   3 Min Read

चेन्नई, मुंबई, विशाखापत्तनम आदि बंदरगाह के नजदीक स्थित शहरों से प्राप्त रिपोर्ट में कहा गया है कि श्रीलंका, थाईलैंड और वियतनाम से एमडीएफ का आयात बाजार में आना शुरू हो गया है। प्लाई रिपोर्टर के फाइंडिंग से संकेत मिलता है कि हाई डेन्सीटी हाई मॉइस्चर रेजिस्टेंस ग्रेड एमडीएफ काफी मात्रा में आ रहा है। कुछ बाजारों में वैल्यू एडेड एमडीएफ कटेगरी में इम्पोर्टेड गुड्स और घरेलू स्तर पर उपलब्ध मेटेरियल के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ती दिख रही है।

चेन्नई स्थित एक किचेन मैन्युफैक्चरर्स का कहना है कि उन्होंने हाई डेन्सीटी हाई मॉइस्चर रेजिस्टेंस ग्रेड इम्पोर्टेड एमडीएफ का उपयोग किया है जो इस केटेगरी में भारत में बने उत्पादों की तुलना में ठीक ठाक कीमत पर उपलब्ध है। हालांकि बाजार का रिपोर्ट बताता है कि एमडीएफ की हाई डेन्सीटी हाई मॉइस्चर रेजिस्टेंस ग्रेड में दोनों मेटेरियल की कीमत यूजर के लिए समान है, कुछ जगहों पर, स्किम या अन्य सेल्स राइडर के साथ यह सस्ता उपलब्ध है। लेकिन इतना तय है कि इम्पोर्टेड मेटेरियल के आने से इम्पोर्ट एमडीएफ की बाजार हिस्सेदारी बढ़ेगी।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कोविड के दौरान देश में इम्पोर्टेड एमडीएफ की बाजार हिस्सेदारी लगभग शून्य थी जो अब लगभग 4 फीसदी तक पहुंच गई है। घरेलू उद्योग के लिए, टिम्बर की कीमत बढ़ी है, लेकिन इम्पोर्ट होने के चलते पैदा हुए प्रतिस्पर्धा के कारण एमडीएफ की कीमत में कोई वृद्धि नहीं हुई है। इससे बाजार में लिफ्टिंग भी धीमा हुआ है। यदि डोमेस्टिक मैन्युफैक्चरर्स एमडीएफ के आयात को रोकना चाहते हैं, तो उन्हें कीमतें बढ़ने से बचना होगा। यही कारण है कि प्रमुख एमडीएफ प्लेयर अब प्लांटेशन पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

हालांकि, आयातकों का कहना है कि डॉलर की ऊँची कीमतों के साथ, इम्पोर्टेड एमडीएफ को घरेलू चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन वैल्यू ऐडेड और थिन एमडीएफ केटेगरी में, उन्हें बाजार में बने रहने की उम्मीद हैं।

You may also like to read

shareShare article
×
×