पंजाब प्लाइवुड मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ने अनिवार्य बीआईएस आदेश को सराहा, कहा इससे घटिया प्लाइवुड के आयात पर अंकुश लगेगा

person access_time   3 Min Read

पंजाब प्लाइवुड मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री इंद्रजीत सिंह सोहल ने बीआईएस मार्किंग की तत्काल जरूरत के लिए वाणिज्य और उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर प्लाइवुड, वुड फ्लश डोर, शटर और ब्लॉक बोर्ड सहित वुड बेस्ड इंडस्ट्री सेक्टर के लिए अगस्त 2023 में डीपीआईआईटी द्वारा क्यूसीओ लागू करने के लिए बधाई दी है।

उन्होंने कहा क्यूसीओ से देश में घटिया प्लाइवुड और ब्लॉक बोर्ड के इम्पोर्ट पर काफी अंकुश लगेगा। हम डीपीआईआईटी के आदेश के लिए तैयार हैं। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि इसे लागू करने की तारीख बढानें की जरूरत नहीं है। उन्होंने इस पत्र को देश के प्रधानमंत्री; वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री; महानिदेशक बीआईएस, उप महानिदेशक (उत्तर), बीआईएस, चंडीगढ़ और प्रमुख (सीएचबीओ), बीआईएस, चंडीगढ़ को भी लिखा है।

उन्होंने लिखा देश में प्लाइवुड इंडस्ट्री के प्रतिकूल होने के चलते बड़ी मात्रा में घटिया और लो क्वालिटी के प्लाइवुड का आयात किया जा रहा है। ‘मेक इन इंडिया‘ को बढ़ावा देने के सरकार के प्रयासों के बावजूद, कई इम्पोर्टर प्लाइवुड ला रहे हैं। ये अपने गोदामों में इस पर नकली बीआईएस मार्क लगाकर यूजर को धोखा दे रहे हैं और स्थानीय प्लेयर्स को कमजोर कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि भारत की प्लाइवुड इंडस्ट्री, मुख्य रूप से किसानों के ट्री प्लांटेशन पर निर्भर है, आयात बढ़ने से किसान गंभीर खतरे का सामना करेंगे और प्लाइवुड इंडस्ट्री में कार्यरत लाखों कर्मचारी बेरोजगार हो जाएंगे। क्यूसीओ लागू करना, घटिया प्लाइवुड और ब्लॉक बोर्ड के आयात पर अंकुश लगाने में सहायक होगा।

Read this article in English

You may also like to read

shareShare article
×
×